पंजाब

अब सरल पंजाबी भाषा में पढ़े जा सकेंगे जायदाद के दस्तावेज़

चंडीगढ़, 11 अक्तूबर: पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत सिंह मान के नागरिक केंद्रित फ़ैसले को लागू करते हुए राजस्व विभाग ने ज़मीन-जायदाद की रजिस्ट्रेशन सरल पंजाबी भाषा में करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है, जिससे अब आम व्यक्ति अपनी जायदाद के दस्तावेज़ पढ़ सकेगा।

 

इस संबंधी जानकारी देते हुए राजस्व मंत्री ब्रम शंकर जिम्पा ने कहा कि विभाग ने जायदाद की रजिस्टरी के लिए सरल पंजाबी भाषा में तैयार किया नया प्रोफॉर्मा जारी कर दिया है। उन्होंने कहा कि डिवीजनल कमिश्नरों, डिप्टी कमिश्नरों और राजस्व अधिकारियों को स्पष्ट हिदायतें जारी कर दी हैं कि जायदाद के मालिक की इच्छा के मुताबिक नये प्रोफॉर्मे के साथ रजिस्ट्रेशन की जाये, जिससे उसे अपने दस्तावेज़ पढऩे में किसी किस्म की दिक्कत पेश न आए।

 

उन्होंने बताया कि यह प्रोफॉर्मा सब-रजिस्ट्रार और संयुक्त सब-रजिस्ट्रार के दफ़्तरों में भी भेज दिया गया है। उन्होंने कहा कि सम्बन्धित व्यक्ति अपनी जायदाद की रजिस्टरी नये प्रोफॉर्मे के मुताबिक करवा सकता है। उन्होंने आगे बताया कि यह प्रोफॉर्मा राजस्व विभाग की आधिकारित वैबसाईट https://revenue.punjab.gov.in पर भी उपलब्ध है। इस प्रोफॉर्मा का प्रिंट लेकर या दोबारा टाईप करके इस पर रजिस्टरी करवाई जा सकती है। जिम्पा ने बताया कि जल्द ही इस प्रोफॉर्मे को ऑनलाइन भरने की सुविधा भी शुरू कर दी जायेगी।

 

यह भी पढ़ें ...  जालंधर में कांग्रेस के दर्जनों काउंसलर आम आदमी पार्टी में हुए शामिल -Video

जिम्पा ने आगे बताया कि बीती 8 सितम्बर को 710 पटवारियों को नियुक्ति पत्र सौंपने के अवसर पर करवाए गए समागम के दौरान मुख्यमंत्री ने यह ऐलान किया था कि ज़मीन-जायदाद की रजिस्ट्रेशन सरल पंजाबी भाषा में की जायेगी, जिससे साधारण व्यक्ति भी अपने कागज़-पत्र पढ़ सके। राजस्व मंत्री ने आगे बताया कि राज्य के लोगों द्वारा लंबे समय से यह माँग की जा रही थी कि ज़मीन-जायदाद से जुड़े दस्तावेज़ों की भाषा साधारण पंजाबी भाषा में होनी चाहिए, क्योंकि इस समय पर रजिस्ट्रेशन के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले दस्तावेज़ों में उर्दू और फ़ारसी शब्दों की भरमार होती थी जिस कारण वह अच्छी तरह से पढ़ नहीं सकते। इससे पहले भाषा की समझ न होने के कारण धोखाधड़ी और गड़बड़ी की गुंजाईश बनी रहती थी।

 

जिम्पा ने आगे बताया कि राजस्व विभाग द्वारा आम लोगों की सुविधा के लिए और भी कई प्रयास किए गए हैं। उन्होंने बताया कि पटवारियों की भर्ती बड़े स्तर पर की गई है, जिससे लोगों ख़ासकर गाँवों के लोगों को ज़मीन का कामकाज करवाने में कोई परेशानी पेश न आए। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री भगवंत सिंह मान के नेतृत्व में राजस्व विभाग लोगों की सेवा के लिए वचनबद्ध है और इसको सुनिश्चित बनाने में कोई कसर बाकी नहीं छोड़ी जायेगी।

यह भी पढ़ें ...  विजिलेंस ब्यूरो ने प्रेस रिपोर्टर को 1,00,000 रुपये की रिश्वत लेते हुए किया गिरफ्तार

राजस्व विभाग में भी यदि किसी भी स्तर पर लोगों को काम करवाने में कोई दिक्कत आती है तो मुख्यमंत्री भगवंत सिंह मान द्वारा इस संबंधी हेल्पलाइन नंबर 8184900002 जारी किया हुआ है जिस पर लिखित शिकायत वट्टसऐप की जा सकती है। एन. आर. आईज़ अपनी लिखित शिकायतें 9464100168 नंबर पर भेज सकते हैं।

Hindxpress.com अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरें

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button