चंडीगढ़

सरकारी अमला पत्रकारों की भलाई को लेकर पूरी तरह से दृढ़ संकल्पित : संजीव कौशल

चंडीगढ़। मीडिया के प्रति पूरी तरह से समर्पित भाव और फ्रेंडली स्वभाव रखने वाले हरियाणा सरकार के मुख्य सचिव संजीव कौशल से मीडिया वेलबिंग एसोसिएशन के अध्यक्ष चंद्रशेखर धरणी के नेतृत्व में पत्रकारों के प्रतिनिधिमंडल ने मुलाकात की। मुलाकात का उद्देश्य हाल ही में प्रदेश सरकार द्वारा पत्रकारों के हितों में पेंशन बढ़ोतरी समेत लिए गए फैसलों पर उनका आभार व्यक्त करना था। हरियाणा सचिवालय में हुई बैठक में उनसे कई मुद्दों पर सौहार्दपूर्ण वार्तालाप हुआ। पत्रकारों के डेलिगेशन ने संजीव कौशल से उनकी कई मांगों को लेकर उनके सहयोग की अपील की।

 

 

 

 

गौरतलब है कि संजीव कौशल लोक संपर्क विभाग के कई बार डायरेक्टर जनरल रह चुके हैं। जिस कारण वह पत्रकारों के संघर्ष- बलिदान और मुश्किलों को बडी गहराई से जानते- समझते हैं। कौशल इसी विभाग के कई बार अतिरिक्त मुख्य सचिव भी रह चुके हैं। प्रदेश सरकार के तमाम कई जिलों में उपायुक्त रहने के कारण वह हर विषय को बेहद गहनता से समझते और परखते हैं। मुख्यमंत्री के बेहद ईमानदार- कर्तव्य निष्ठ- विश्वसनीय और अनुभवी अधिकारियों की लिस्ट में लंबे समय से संजीव कौशल बने हुए हैं। मुख्यमंत्री कार्यलय में मुख्य सचिव पद की महत्वपूर्ण जिम्मेदारी संजीव कौशल ने बखूबी निभाते हुए अपनी क्षमता को प्रमाणित किया है। उपायुक्त रहने दौरान भी वरिष्ठ आईएएस अधिकारी संजीव कौशल मीडिया बेहद फ्रेंडली व्यवहार के रहे हैं और आज भी इनका नाम ब्यूरोक्रेसी में मीडिया फ्रेंडली होने की अग्रिम पंक्ति में गिना जाता है।

यह भी पढ़ें ...  भारतीय ओलंपिक संघ की अध्यक्ष पीटी उषा बोली, एथलेटिक्स में हमने जीतना शुरू कर दिया

 

 

 

मीडिया के कल्याण हेतु पूरे समर्पित भाव से लगे हैं मुख्यमंत्री :कौशल

 

दरअसल संजीव कौशल ने लोक संपर्क विभाग में डायरेक्टर जनरल और अतिरिक्त मुख्य सचिव रहने के दौरान दूरगामी सोच रखते हुए पत्रकारों के हितों में कई महत्वाकांक्षी योजनाएं बनाई थी, जिनका लाभ आज तक भी पत्रकारों को मिल रहा है। पत्रकारों के लिए यह योजनाएं काफी सार्थक साबित हुई है। इसलिए पत्रकार हमेशा संजीव कौशल से आशा रखते आए हैं। डेलिगेशन द्वारा सक्रीय पत्रकारिता कर रहे पत्रकार की किसी भी कारण से मृत्यु होने उपरांत आश्रितों को पैंशन एवं तमाम अन्य प्रकार की सुविधाएं दिए जाने की योजना बनवाने में उनका सहयोग मांगा। डेलिगेशन का नेतृत्व कर रहे चंद्रशेखर धरणी ने उदारहण देते हुए बताया कि कोरोना काल के दौरान कुछ पत्रकारों ने अपनी जान गंवाई तो कुछ की आपातकाल मृत्यु सड़क हादसों में भी हुई है, जिसके बाद उनके परिवारों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा है। इस बात पर बेहद गंभीरता दिखाते हुए संजीव कौशल ने डेलिगेशन को सकारात्मक कोशिश करने की बात कहते हुए बताया कि वैसे भी प्रदेश के मुख्यमंत्री मीडिया के प्रति पूरी तरह से समर्पित भाव से लगे हुए हैं। कई विषयों पर गहन विचार विमर्श चल रहा है।

यह भी पढ़ें ...  Amritpal Singh: पंजाब से लेकर पीलीभीत तक अमृतपाल की तलाश, वायरल हो रहे ऑडियो-वीडियो, फिर भी साइबर सेल नाकाम
Hindxpress.com अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरें

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button