खेल

T20 WC: 2007 में भारत को विश्व कप जिताने वाले खिलाड़ी ने लिया संन्यास

जोगिंदर ने अंतरराष्ट्रीय करियर में चार वनडे और चार टी20 खेले। वनडे में उनके नाम एक विकेट और टी20 में चार विकेट हैं। वनडे में उनकी सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी 28 रन पर एक विकेट है, जबकि टी20 में यह 20 रन पर दो विकेट है।

भारत को 2007 में टी20 विश्व कप जिताने वाले तेज गेंदबाज जोगिंदर शर्मा ने संन्यास ले लिया है। उन्होंने शुक्रवार को ट्वीट कर क्रिकेट के सभी प्रारूपों से संन्यास की घोषणा की। 39 साल के जोगिंदर पिछले काफी समय से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से दूर रहे हैं। 2007 में ही उन्होंने आखिरी अंतरराष्ट्रीय मैच खेला था। तब टी20 विश्व कप में जोगिंदर कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के मुख्य हथियारों में से एक रहे थे। जोगिंदर ने बीसीसीआई सचिव जय शाह को चिट्ठी लिखकर संन्यास की घोषणा की।

जोगिंदर ने चिट्ठी में बीसीसीआई, हरियाणा क्रिकेट एसोसिएशन, चेन्नई सुपर किंग्स और हरियाणा सरकार का शुक्रिया अदा किया। साथ ही अपने फैन्स, परिवार, दोस्तों को भी धन्यवाद कहा, जिन्होंने करियर के उतार-चढ़ाव में उनका साथ दिया। जोगिंदर ने कहा कि वह अब क्रिकेट की दुनिया में अन्य विकल्प तलाशेंगे। उन्होंने वह जीवन के नए चैप्टर की शुरुआत करने के लिए तैयार हैं। जोगिंदर ने कहा- मैं अपने सभी साथी और भारतीय क्रिकेट को भविष्य के लिए शुभकामनाएं देना चाहता हूं।

यह भी पढ़ें ...  अपना पहला वर्ल्ड कप खेल रही यास्तिका भाटिया ने गुजराती जागरण से खास बातचीत की

2007 टी20 विश्व कप से पहले तक कोई जोगिंदर को जानता तक नहीं था, जबकि वह टीम इंडिया के लिए 2004 में ही वनडे डेब्यू कर चुके थे। जोगिंदर ने बांग्लादेश के खिलाफ 23 दिसंबर 2004 को डेब्यू किया था। उन्होंने अपना आखिरी वनडे 24 जनवरी 2007 को वेस्टइंडीज के खिलाफबाराबाती स्टेडियम में खेला।

वहीं, टी20 डेब्यू जोगिंदर ने 19 सितंबर 2007 को इंग्लैंड के खिलाफ किंग्समीड में किया था। वहीं, भारत के लिए आखिरी टी20 उन्होंने 24 सितंबर 2007 को पाकिस्तान के खिलाफ वांडरर्स स्टेडियम में खेला था। यह टी20 विश्व कप का फाइनल मैच था। फाइनल में भारत को आखिरी ओवर में 13 रन बचाने थे, जबकि सामने मिस्बाह उल हक थे। कप्तान धोनी ने हरभजन सिंह पर जोगिंदर शर्मा को तरजीह दी थी और यह मास्टर-स्ट्रोक साबित हुआ था।

जोगिंदर की पहली गेंद वाइड रही थी। अगली गेंद पर मिस्बाह कोई रन नहीं बना सके थे। इसके बाद दूसरी गेंद पर छक्का लगा था। तीसरी गेंद पर स्कूप के चक्कर में मिस्बाह फाइन लेग पर खड़े श्रीसंत को कैच थमा बैठे थे। इस तरह जोगिंदर ने भारत को पांच रन से विश्व कप जिताने में मदद की थी। जोगिंदर ने कोरोना के समय बतौर पुलिस अफसर बहुत काम किया था। खुद आईसीसी ने पोस्ट कर उनके काम की सराहना की थी।

यह भी पढ़ें ...  युवाओं को नशों से दूर रहने का संदेश लेकर आईटी पार्क थाना प्रभारी: क्रिकेट टूर्नामेंट का अयोजन

जोगिंदर ने अंतरराष्ट्रीय करियर में चार वनडे और चार टी20 खेले। वनडे में उनके नाम एक विकेट और टी20 में चार विकेट हैं। वनडे में उनकी सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी 28 रन पर एक विकेट है, जबकि टी20 में यह 20 रन पर दो विकेट है। वह आईपीएल में भी 16 मैच खेल चुके हैं और 12 विकेट ले चुके हैं। 27 रन देकर दो विकेट उनकी सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी है। आईपीएल में जोगिंदर चेन्नई सुपर किंग्स और गुजरात जाएंट्स के लिए खेल चुके हैं।

Hindxpress.com अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरें

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button