राष्ट्रीय

केंद्रीय मंत्री पीयूष बोले, थ्री ईडियड नहीं बनना, कौशल निखारने की जरूरत

केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने लखनऊ में आयोजित ग्लोबल इंवेस्टर्स समिट को संबोधित किया और यूपी के बदलते माहौल व विकास यात्रा की चर्चा की। उन्होंने कहा कि हमें स्किल्ड युवाओं की जरूरत है। संभावनाओं की कोई कमी नहीं है।

हमें देश को थ्री इडियट्स जैसा नहीं बनाना है, जहां कोई मां-बाप अपने बेटे को जबरदस्ती इंजीनियरिंग कराए, जबकि उसकी दिलचस्पी फोटोग्राफी में हो। प्रत्येक सेक्टर में रोजगार की असीम संभावनाएं हैं, बस जरूरत है स्किल को डेवलप करने की। उत्तर प्रदेश में लाखों करोड़ का निवेश होने से निजी और सरकारी क्षेत्र में बड़े पैमाने पर नौकरियां आएंगी। मगर इसके लिए हमें स्किल्ड मैनपॉवर की जरूरत होगी। राष्ट्रीय शिक्षा नीति कौशल विकास के इसी मूल भावना को प्रोत्साहित करती है।

ये बातें रविवार को राजधानी के वृन्दावन योजना में आयोजित यूपी ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट 2023 के तीसरे और अंतिम दिन वशिष्ठ हॉल में आयोजित ‘री इंवेंटिंग स्किल डेवलपमेन्ट ईको सिस्टम इन उत्तर प्रदेश’ विषय पर विशेष सत्र के दौरान केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने कही।

भारत के अमृत काल में प्रवेश का ये आगाज शानदार है
केंद्रीय मंत्री ने इस दौरान निवेशकों, स्टेक होल्डर्स को संबोधित करते हुए उत्तर प्रदेश में निवेश के अवसरों और संभावनाओं की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि लखनऊ आकर इस बार वाकई में बहुत आनंद आया। निवेशकों के लिए पूरा शहर सजा हुआ है।

यह भी पढ़ें ...  उज्जैन में अब मकर संक्रांति चाइना डोर की कुबूल नहीं, मांझा जलाकर बोहरा समाज ने किया विरोध

यूपी जीआईएस-23 में 33 लाख करोड़ का निवेश निश्चित रूप से बड़ी उपलब्धि है। भारत के अमृत काल में प्रवेश के दौरान उत्तर प्रदेश का ये आगाज शानदार है। ये निवेश राज्य के हर युवा के भविष्य को उज्जवल करने वाला है।

भारत को विकसित देश बनाने में सबसे बड़ा योगदान कौशल विकास क्षेत्र का होगा। दुनिया भर की सरकारें इसे महसूस कर रही हैं। हमें अगर लंबी छलांग लगानी है तो अपने युवाओं के कौशल को निखार कर उन्हें भविष्य के रोजगारों के लिए तैयार करना होगा। देश की युवा शक्ति को सही दिशा में चैनलाइज किया जाए तो अवसरों की कहीं कोई कमी नहीं होगी। अवसर बहुत हैं, काम करने की क्षमता वाले युवा मैनपॉवर चाहिए।

उत्तर प्रदेश बन रहा औद्योगिक प्रदेश
केंद्रीय मंत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ उत्तर प्रदेश को आद्योगिक प्रदेश बनाने के लिए संकल्पित हैं। बीते 6 साल में यूपी से गुंडा, माफिया को खत्म करने का काम हुआ है, व्यापारी वर्ग सुरक्षित हुआ है। महिलाओं के मन में सुरक्षा का भाव पैदा हुआ है। उन्हें शाम की शिफ्ट में काम करने में अब डर नहीं लग रहा।

पीयूष गोयल ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के युवाओं को बहुत से अवसर उपलब्ध कराए हैं। नौकरी के नाम पर विपक्षी दल युवाओं को चाहे जितना बरगलाने की कोशिश करें, मगर देश के युवाओं को अब स्किल डेवलपमेंट का महत्व समझ में आ रहा है। स्किल डेवलपमेंट के लिए किए गए मोदी सरकार के प्रयासों का ही नतीजा है कि युवाओं का भरोसा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर बढ़ता ही जा रहा है।

यह भी पढ़ें ...  मलेशिया में फंसी पंजाबी लड़की की जल्द होगी वतन वापसी का रास्ता साफ हुआ

केवल सरकारी नौकरी के पीछे भागने की जरूरत नहीं
पीयूष गोयल ने स्किलिंग, ट्रेनिंग और वोकेशनल ट्रेनिंग पर जोर देते हुए कहा कि स्किल डेवलपमेन्ट का क्षेत्र कभी खत्म होने वाली चीज नहीं, ये लगातार सीखने वाली चीज है। आज एआई, मशीन लर्निग जैसी नई टेक्नोलॉजी के साथ हमें अपने युवाओं को जोड़ना होगा।

युवाओं को भी खुद को बदलती हुई दुनिया से जोड़ते हुए केवल सरकारी नौकरी के पीछे भागने की जगह अपने हुनर से नौकरी पैदा करने वाला बनना होगा। इसके अलावा हमें अपने बुनकरों, श्रमिकों और कारीगरों के कौशल को भी विकसित करना होगा, ताकि उनके उत्पाद बेहतर पैकेजिंग के साथ दुनिया के बाजार तक पहुंचे।

विशेष सत्र के दौरान उत्तर प्रदेश के कौशल विकास राज्य मंत्री कपिल देव अग्रवाल, टाटा कंपनी से सुशील कुमार, आईएएस आंद्रा वामशी, आईएएस आलोक कुमार ने निवेशकों के सामने नए भारत के ग्रोथ इंजन उत्तर प्रदेश की विकास यात्रा की तस्वीर पेश की। इस दौरान प्रेजेंटेशन के जरिए यूपी में स्किल डेवलपमेंट के क्षेत्र में संभावनाओं को प्रदर्शित किया गया। साथ ही प्रधानमंत्री का वीडियो सन्देश भी प्रसारित किया गया।

Hindxpress.com अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरें

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button