चंडीगढ़

पंजाब राजभवन में हुआ उत्तराखंड के स्थापना दिवस समारोह का आयोजन

चंडीगढ़, 9 नवंबर 2023: पंजाब के राज्यपाल बनवारी लाल पुरोहित की प्रेरणा एवं मार्गदर्शन में आज पंजाब राजभवन में ‘एक भारत-श्रेष्ठ भारत’ योजनांतर्गत उत्तराखंड राज्य का स्थापना दिवस मनाया गया। इस अवसर पर आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रम में उत्तर क्षेत्र सांस्कृतिक केंद्र के कलाकारों द्वारा एक मनमोहक सांस्कृतिक प्रस्तुति के अन्तर्गत उत्तराखंड की नंदा देवी लोक जात यात्रा का प्रदर्शन किया गया।

इस अवसर पर उत्तराखंड के माननीय राज्यपाल स. गुरमीत सिंह का अभिनंदन वीडियो संदेश भी सुनाया गया। राज्य स्थापना दिवस समारोहों की कड़ी में ऐसा पहली बार हुआ जब किसी राज्यपाल का वीडियों संदेश सुनाया गया हो।

उत्तराखण्ड केवल हिन्दुओं के लिए ही तीर्थस्थल नहीं

कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुये राज्यपाल ने उत्तराखंड के स्थापना दिवस पर बधाई देते हुए लोक कलाकारों द्वारा किये गये प्रस्तुतीकरण की प्रशंसा की और कार्यक्रम में उपस्थित दर्शकों से संवाद स्थापित करते हुए कहा कि इन स्थापना दिवसों को मनाने का उद्देश्य भाईचारे, अखंडता और राष्ट्र के प्रति प्रेम की भावना को मजबूत करना और उन लोगों के प्रयासों को याद करना है जिन्होंने राज्य का दर्जा हासिल करने के लिए कड़ी मेहनत की।

यह भी पढ़ें ...  चंडीगढ़ BJP में नियुक्तियां; इस विंग में उपाध्यक्ष

 

उत्तराखंड के बारे में बोलते हुए राज्यपाल ने कहा कि उत्तराखंड की भूमि देवभूमि, तपोभूमि और वीर-भूमि है जहां हज़ार वर्षों से भी अधिक समय से तीर्थयात्री मोक्ष और पाप से मुक्ति व शुद्धिकरण की खोज में आते रहे हैं। यहां मौजूद बद्रीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री और यमनोत्री चार सबसे पवित्र और श्रद्धेय हिंदू मंदिर हैं जिन्हें उत्तराखंड के चार धाम के रूप में भी जाना जाता है। उन्होंने कहा कि उत्तराखण्ड केवल हिन्दुओं के लिए ही तीर्थस्थल नहीं है। हिमालय की गोद में स्थित हेमकुण्ड साहिब, सिखों का तीर्थ स्थल है।

 

पुरोहित ने आगे कहा कि भारत माता के लिए उत्तराखंड की भूमि और यहां के लोगों का योगदान अतुलनीय है। उत्तराखंड कई नदियों का उद्गम स्थल है जिन्होंने भारत के एक बड़े हिस्से को सिंचित और विकसित किया है। अंत में उन्होंने विविधता में एकता के महत्व को समझाते हुए कहा कि हम चाहे किसी भी राज्य, किसी भी समुदाय, जाति या पंथ से संबंध रखते हों, लेकिन सबसे पहले हम भारतीय हैं और समाज के सभी वर्गों को जागरूक करना तथा एकता और प्रेम का संदेश फैलाना आवश्यक है।

यह भी पढ़ें ...  Indore News: हैदराबाद की तर्ज पर बनेगा इंदौर में दस हजार की क्षमता का कन्वेंशन सेंटर

 

 

Hindxpress.com अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरें

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button