राज्य

मुगल गार्डन अब कहलाएगा अमृत उद्यान,ब्रिटिश शासन के दौरान हुआ था निर्माण

इतिहास के कई किस्से-कहानी खुद में समेटे हुए राष्ट्रपति भवन का मुगल गार्डन अब उद्यान खुद एक इतिहास बन जाएगा। केंद्र की सरकार ने आजादी का अमृत महोत्सव की थीम को ध्यान में रखते हुए राष्ट्रपति भवन के मुगल गार्डन का नाम बदलकर ‘अमृत उद्यान’ कर दिया गया

राष्ट्रपति भवन की वेबसाइट के अनुसार, 15 एकड़ में फैला, मुगल गार्डन (अब तत्कालीन) जम्मू और कश्मीर के मुगल गार्डन, ताजमहल के आसपास के बगीचों और भारत और फारस के लघु चित्रों से प्रेरणा लेता है।

ब्रिटिश शासन के दौरान हुआ मुगल गार्डन का निर्माण
मुगल गार्डन के नाम से पता चलता है कि इसे मुगल शासकों ने बनवाया होगा। लेकिन ऐसा नहीं है इस गार्डन का निर्माण ब्रिटिश शासन के दौरान हुआ था।
जब भारत पर अंग्रेजों शासन हुआ तो देश की राजधानी कोलकाता थी। 1911 में भारत की राजधानी दिल्ली शिफ्ट हो गई। दिल्ली में वायसराय हाउस का निर्माण किया गया। आजादी के बाद यह हाउस राष्ट्रपति भवन बन गया।
इस भवन का डिजाइन ब्रिटिश आर्किटेक्ट सर एडिवन लूटियंस ने तैयार किया। इंग्लैंड से भारत आने के बाद सर एडविन लूटियंस ने मुगल गार्डन का नक्शा बनाया। 1917 में मुगल गार्डन के डिजाइन तैयार किया गया। यह गार्डन 1928 में बनकर तैयार हुआ।

राष्ट्रपति भवन में मुगल गार्डन के अलावा और भी विभिन्न प्रकार के उद्यान हैं। मूल रूप से, उनमें ईस्ट लॉन, सेंट्रल लॉन, लॉन्ग गार्डन और सर्कुलर गार्डन शामिल थे।

यह भी पढ़ें ...  मीत हेयर और हरजोत सिंह बैंस द्वारा अधिक से अधिक खिलाडिय़ों को खेलों में शामिल करने का न्योता

हालाँकि, पूर्व राष्ट्रपतियों एपीजे अब्दुल कलाम और राम नाथ कोविंद के कार्यकाल के दौरान, अधिक उद्यान विकसित किए गए – जैसे हर्बल- I, हर्बल- II, टैक्टाइल गार्डन, बोनसाई गार्डन और आरोग्य वनम।

Hindxpress.com अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरें

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button