अंतर्राष्ट्रीय

यूक्रेन की सेना दे रही रूसी हमलों का करारा जवाब 14 हमले नाकाम

यूक्रेन के प्राधिकारियों ने सोमवार को बताया कि उनकी सेना बखमुत और डोनबास के पूर्वी इलाके के शहरों में लगातार हो रहे रूसी हमलों का मुंहतोड़ जबाव दे रही हैं। उन्होंने रूस के उस दावे को भी खारिज किया है जिसमें 600 यूक्रेनी सैनिक मारे जाने की बात कही गई थी।

यूक्रेन की सशस्त्र सेना के जनरल स्टाफ के अनुसार बीते दिन रूस ने सात मिसाइल स्ट्राइक, 31 एयर स्ट्राइक और साल्वो रॉकेट से 73 हमले किए। यूक्रेन की सेना ने बखमुत के साथ ही 14 स्थानों में हमलों को नाकामयाब कर दिया।

युद्ध विराम की सिर्फ बातें करता है रूस

रविवार को राष्ट्रपति व्लादीमीर जेलेंस्कि ने कहा था कि बखमुत अपनी जगह पर डटा हुआ है। हालांकि अधिकतर शहर तबाह कर दिए गए हैं लेकिन हमारे सैनिक रूस द्वारा लगातार किए जा रहे हमलों को पहले ही रोक रहे हैं। बहुत अधिक नुकसान झेलने के बाद भी पास का सोलेदार शहर भी टिका हुआ है।

यह भी पढ़ें ...  ट्रायम्फ स्पीड 400 बाइक भारत में हुई लॉन्च, कीमत 2.33 लाख रुपये

जेलेंस्की ने रूस के क्रिसमस के दौरान किए गए युद्ध विराम के दावे की निंदा करते हुए कहा कि रूस ने क्रिसमस के ठीक बाद खेरसान पर भीषण हमला किया। कार्माटॉर्क्स और डोनबास के अन्य शहरों में आम नागरिकों को निशाना बनाकर किए गए हमले उस समय किए गए जब मास्को से अपने सैनिकों को शांति बनाए रखने के लिए कहा था।

600 सैनिक मारे जाने का सबूत नहीं

रविवार को रूस ने दावा किया था कि बखमुत के उत्तर-पश्चिम में कार्माटॉर्क्स पर किए गए मिसाइल हमले में 600 यूक्रेनी सैनिक मारे गए। लेकिन रायटर्स के रिपोर्टर को इस तरह के कोई सबूत नहीं मिले।

पूर्वी क्षेत्र में यूक्रेन सेना के प्रवक्ता सेरही चेरवती कहते हैं कि बड़ी संख्या में सैनिकों के मारे जाने के दावे के जरिए रूसी रक्षा मंत्रालय यह दिखना चाहता है कि उसने हाल ही में यूक्रेन द्वारा रूसी सैनिकों पर किए गए हमले का जोरदार जवाब दिया था।

यह भी पढ़ें ...  Pakistan: महंगाई ने 50 साल का रिकॉर्ड तोड़ा, दाने-दाने को तरसे लोग; खाने के लिए जुट रही भीड़ में हो रही मौतें

बढ़ रहा है विरोध

रूस द्वारा यूक्रेन को कुचलने के लिए शुरू किए गए युद्ध को एक साल होने वाला है। स्थानीय लोग सेना पर युद्ध को किसी परिणाम तक पहुंचाने के लिए दबाव बना रहे हैं। बहुत से मिलिट्री ब्लॉगर रूसी सेना द्वारा किए जा रहे दावों की आलोचना कर रहे हैं। उनके अनुसार दोनों देश अपने मारे गए सैनिकों की संख्या को कम बता रहे हैं।

Hindxpress.com अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरें

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button