राष्ट्रीय

इजराइल: इस्राइल का दावा; हमले के बाद फलस्तीनी आतंकियों ने कई रॉकेट दागे

इजरायली सेना ने कहा है कि फिलिस्तीनी आतंकवादियों ने गुरुवार की सुबह गाजा पट्टी से देश के दक्षिणी हिस्से में छह रॉकेट दागे है। दरअसल, कब्जे वाले वेस्ट बैंक में इजरायली सेना के छापे के घंटों बाद हुई गोलाबारी में 11 फिलिस्तीनी मारे गए थे, जिसके बाद यह हमला किया गया है। हालांकि, फिलिस्तीनी आतंकवादी समूहों द्वारा इसका तुरंत दावा नहीं किया गया है।

किसी के घायल होने की खबर नहीं

इजरायली सेना ने कहा कि हवाई रक्षा ने पांच रॉकेटों को रोक दिया, जिन्हें एशकलोन और सडरोट शहरों की ओर दागा गया था। एक मिसाइल खुले मैदान में गिरी।

इसके बाद इजरायली विमानों ने उत्तरी और मध्य गाजा में कई ठिकानों को निशाना बनाया। हालांकि, इस दौरान इजरायल या गाजा में किसी के घायल होने की खबर नहीं है।

सबसे खूनी लड़ाई कहा जा सकता है

स्वास्थ्य अधिकारियों के अनुसार, नब्लस में मरने वालों में तीन फिलिस्तीनी पुरुष थे, जिनकी उम्र 72, 66 और 61 वर्ष है और एक 16 वर्षीय लड़का भी इसमें मारा गया था।

इसके अलावा, सैकड़ों लोग घायल भी हुए हैं। वेस्ट बैंक और पूर्वी यरुशलम के बीच छिड़ी लड़ाई के लगभग एक साल के समय में इसे सबसे खूनी लड़ाई माना गया था

औरआगे रक्तपात की संभावना बढ़ गई। चार घंटे के ऑपरेशन ने उग्रवादियों के गढ़ के रूप में पहचाने जाने वाले शहर नब्लस के सदियों पुराने बाजार को व्यापक नुकसान पहुंचाया है।

यह भी पढ़ें ...  देश में कोरोना का खतरा, PM मोदी करेंगे समीक्षा, 4 केस भारत में भी

रात में करती हैं छापेमारी

इजरायल पिछले साल से ही फिलिस्तीनियों द्वारा किए गए घातक हमलों के बाद से ही वेस्ट बैंक में आतंकवादियों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी कर रहा है।

इजरायली सेना ने कहा कि वह वेस्ट बैंक के वाणिज्यिक केंद्र तीन संदिग्ध आतंकवादियों को गिरफ्तार करने के लिए घुसी थी। सेना आम तौर पर रात में छापे मारती है, क्योंकि इनका मानना है कि उस दौरान नागरिकों के हताहत होने का खतरा कम हो जाता है।

सुरक्षा व्यवस्था की गई सख्त

विभिन्न फिलिस्तीनी उग्रवादी समूहों ने छह मृतकों का दावा किया है, जिनमें तीन तो लक्षित सदस्य थे, वहीं, अन्य सशस्त्र समूहों से संबंधित थे या नहीं, इस बात की जानकारी नहीं है। बाद में, अधिकारियों ने कहा कि एक 66 वर्षीय व्यक्ति की मौत आंसू गैस के कारण हुई थी।

जैसे ही शवों को स्ट्रेचर पर भीड़ में ले जाया गया, हजारों लोग सड़कों पर जमा हो गए, उग्रवादियों के समर्थन में नारा लगाने लगे। नकाबपोश लोगों ने हवा में फायरिंग भी शुरू कर दी थी, इसलिए सुरक्ष व्यवस्था को और सख्त कर दिया गया है।

यह भी पढ़ें ...  प्रसार भारती के पूर्व एडवायजर ज्ञानेंद्र बरतरिया का निधन

पिछले एक साल से छिड़ी है जंग

आपको बता दें, पिछले महीने, उत्तरी वेस्ट बैंक में इसी तरह के हमले में इजरायली सैनिकों ने 10 लोगों की हत्या कर दी थी। इसके जवाब में फिलस्तीनी उग्रवादियों ने गाजा से रॉकेट दागे।

अगले दिन, एक अकेला फिलिस्तीनी बंदूकधारी ने पूर्वी यरुशलम की बस्ती में एक सभास्थल के पास गोली चला दी, जिसमें सात लोग मारे गए थे।

कुछ दिनों बाद, वेस्ट बैंक में कहीं और एक इजरायली गिरफ्तारी छापे में पांच फिलिस्तीनी आतंकवादी मारे गए। इसके बाद यरुशलम में एक फिलिस्तीनी कार चालक से टक्कर लगने के बाद दो भाइयों सहित तीन इजरायलियों की मौत हो गई।

Hindxpress.com अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरें

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button