पंजाब

Punjab: लोकसभा चुनाव की तैयारी में जुटा शिअद-बसपा गठबंधन

मायावती, सुखबीर और हरसिमरत बादल की दिल्ली में बैठक हुई। दोनों दलों के नेताओं ने गठबंधन की मजबूती व तालमेल बढ़ाने पर चर्चा की गई।

शिरोमणि अकाली दल (शिअद) और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) का गठबंधन आगामी लोकसभा चुनाव एकजुट होकर लड़ने की तैयारी में जुट गया है। वीरवार को शिअद प्रमुख सुखबीर सिंह बादल, उनकी पत्नी सांसद हरसिमरत कौर बादल और बसपा सुप्रीमो मायावती के बीच नई दिल्ली में गुरुवार दोपहर भोज पर विशेष मुलाकात हुई।

इन नेताओं ने लोकसभा चुनाव में शिअद-बसपा गठबंधन की मजबूती और बेहतर तालमेल बनाए रखने पर विस्तार से बातचीत की। साथ ही, लोकसभा चुनाव में बेहतर परिणाम लाकर देश की राजनीति में बदलाव लाने पर भी सहमति बनी।

मायावती के निवास स्थान पर हुई इस मुलाकात के दौरान बसपा सुप्रीमो ने कहा कि बसपा को शिअद नेताओं पर पूरा भरोसा है कि वे भी बसपा की तरह ही अपना वोट हमारी पार्टी को ट्रांसफर कराने में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे ताकि गठबंधन का फायदा हो और ज्यादा से ज्यादा उम्मीदवार चुनाव जीत का अच्छा संदेश दें।

दोनों दलों के शीर्ष नेतृत्व में शुरू से ही इस बात पर आम सहमति थी कि पंजाब विधानसभा चुनाव की तरह ही आगामी लोकसभा चुनाव के दौरान भी दोनों दलों के बीच पूरी एकता, एकजुटता व समन्वय हर हाल में बरकरार रहना चाहिए।

बैठक के बाद शिअद प्रमुख सुखबीर बादल ने ट्वीट कर कहा
”बसपा सुप्रीमो बहन मायावती से बातचीत करके और उनके प्रबुद्ध विचार सुनकर खुशी हुई। बहनजी से उनके घर पर मुलाकात की और पंजाब में अकाली-बसपा गठबंधन को मजबूत करने के लिए बातचीत की। जालंधर में चुनाव और 2024 के लोकसभा चुनाव में सर्वश्रेष्ठ परिणामों के लिए संयुक्त अभियान के अलावा बेहतर समन्वय पर ध्यान केंद्र किया गया।” उन्होंने दूसरे ट्वीट में लिखा- बैठक में सतीश मिश्रा भी शामिल थे।

उन्होंने पंजाब और आप सरकार में किसानों, युवाओं और अनुसूचित जाति की आकांक्षाओं को पूरा करने और कानून-व्यवस्था के पतन का उल्लेख किया। लोग अकाली-बसपा गठबंधन में विश्वास करेंगे और भाजपा की नकारात्मक राजनीति के खिलाफ मतदान करने के अलावा जनविरोधी आप और कांग्रेस को खारिज करेंगे।”

उधर, मायावती ने भी ट्वीट कर कहा- ”पंजाब में शिअद-बसपा गठबंधन भरोसेमंद, जिस पर जनता की फिर से नजर। पहले कांग्रेस और अब आप सरकार के कार्यकलाप, वादाखिलाफी से जनता दु:खी। भाजपा की जुगाड़ व तोड़फोड़ वाली निगेटिव राजनीति भी लोगों को नापसंद।

शिअद के संरक्षक व पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल की अच्छी सेहत के साथ उनकी लंबी उम्र की कामना। दोनों पार्टियों का गठबंधन बनाने से लेकर उसे जमीनी स्तर पर मजबूती प्रदान करने में उनकी भूमिका सराहनीय। उनका गठबंधन को आशीर्वाद पहले की तरह आज भी पूरी मजबूती से बरकरार।”

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button