राजनीति

भारत ने तोड़ा 14 साल पुराना रिकॉर्ड, वनडे में रिकॉर्ड सबसे बड़ी जीत, श्रीलंका को 317 रन से हराया

भारत ने तिरुवनंतपुरम के ग्रीनफील्ड इंटरनेशनल स्टेडियम में खेले गए तीसरे वनडे में श्रीलंका को 317 रन से हरा दिया। यह रनों के अंतर से वनडे इतिहास की सबसे बड़ी जीत है। इससे पहले यह रिकॉर्ड न्यूजीलैंड के नाम था। उन्होंने 2008 में आयरलैंड को 290 रन से हराया था। वहीं, भारतीय टीम का पिछला रिकॉर्ड 257 रन से जीत का था, जो उन्होंने 2007 में बरमूडा के खिलाफ हासिल की थी।

शानदार शतक जड़ने वाले विराट कोहली को प्लेयर ऑफ द मैच घोषित किया गया। इस सीरीज में उन्होंने तीन मैचों में दो शतक की बदौलत 283 रन बनाए। इसके लिए उन्हें प्लेयर ऑफ द सीरीज भी चुना गया।

पहले बल्लेबाजी करते हुए भारत ने 50 ओवर में पांच विकेट गंवाकर 390 रन बनाए थे। शुभमन गिल ने 116 रन और विराट कोहली ने 166 रन की नाबाद पारी खेली थी। जवाब में श्रीलंका की टीम ने 22 ओवर में नौ विकेट गंवाकर 73 रन बनाए। अशेन बंडारा चोटिल होने की वजह से मैदान पर नहीं आ सके। इस तरह टीम इंडिया ने 317 रन से जीत दर्ज की।

भारत ने चौथी बार श्रीलंका का क्लीन स्वीप किया

भारत ने श्रीलंका का 3-0 से क्लीन स्वीप भी कर दिया। भारत ने पहला वनडे 67 रन और दूसरा वनडे चार विकेट से जीता था। चौथी बार टीम इंडिया ने वनडे सीरीज में श्रीलंका का क्लीन स्वीप किया है। इससे पहले 1982/83 में भारतीय टीम ने श्रीलंका को तीन मैचों की सीरीज में 3-0 से हराया था।

इसके बाद 2014/15 में श्रीलंका के भारत दौरे पर पांच मैचों की वनडे सीरीज में टीम इंडिया ने 5-0 से जीत हासिल की थी। वहीं, 2017 में भी पांच मैचों की वनडे सीरीज को भारत ने 5-0 से अपने नाम किया था।

शुभमन-रोहित ने दिलाई शानदार शुरुआत

टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने उतरी भारतीय टीम की शुरुआत शानदार रही। कप्तान रोहित शर्मा और शुभमन गिल ने पहले विकेट के लिए 92 गेंदों में 95 रन जोड़े। रोहित अर्धशतक से चूक गए। वह 49 गेंदों में 42 रन बनाकर आउट हुए। अपनी पारी में कैप्टन ने दो चौके और तीन छक्के लगाए। इसके बाद शुभमन ने कोहली के साथ मिलकर भारत को मजबूत स्थिति में पहुंचाया। दोनों ने दूसरे विकेट के लिए 110 गेंदों में 131 रन की साझेदारी निभाई।

यह भी पढ़ें ...  लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान सरकारी विश्राम गृहों का पार्टियां व उम्मीदवार नहीं कर सकेंगे उपयोग: मुख्य निर्वाचन अधिकारी

शुभमन ने वनडे करियर का दूसरा शतक जड़ा

शुभमन गिल ने बेहतरीन पारी खेलते हुए 89 गेंदों पर वनडे करियर का दूसरा शतक जड़ा। यह भारत में उनका पहला अंतरराष्ट्रीय शतक रहा। इससे पहले शुभमन ने जिम्बाब्वे के खिलाफ उसके घर में शतक लगाया था। शुभमन-कोहली की साझेदारी को कसुन रजिता ने तोड़ा। उन्होंने शुभमन को क्लीन बोल्ड किया। युवा ओपनर ने 97 गेंदों पर 116 रन की पारी खेली। अपनी पारी में शुभमन ने 14 चौके और दो छक्के लगाए।

कोहली ने जड़ा शानदार शतक

इसके बाद कोहली ने श्रेयस अय्यर के मिलकर टीम इंडिया की पारी संभाली। दोनों ने तीसरे विकेट के लिए 71 गेंदों पर 108 रन की साझेदारी निभाई। इस बीच कोहली ने 85 गेंदों में शतक जड़ दिया। यह उनके वनडे करियर का 46वां शतक रहा। वनडे में सबसे ज्यादा शतक के मामले में अब कोहली सचिन तेंदुलकर से सिर्फ तीन शतक पीछे हैं।

सचिन के नाम इस फॉर्मेट में सबसे ज्यादा शतक का रिकॉर्ड है। उन्होंने 49 शतक लगाए थे। कोहली का यह 74वां अंतरराष्ट्रीय शतक रहा। इस मामले में भी वह बस सचिन से पीछे हैं।

सचिन के नाम 100 अंतरराष्ट्रीय शतक हैं। वहीं, इस सीरीज का दूसरा शतक रहा। सीरीज के पहले वनडे में कोहली ने 113 रन बनाए थे। पिछली चार वनडे पारियों में यह उनका तीसरा शतक रहा। इस सीरीज से पहले बांग्लादेश के खिलाफ आखिरी वनडे में भी कोहली ने 113 रन की पारी खेली थी। शतक लगाने के बाद कोहली और आक्रामक हो गए।

उन्होंने श्रीलंका के गेंदबाजों की जमकर धुनाई की। श्रेयस के रूप में टीम इंडिया को तीसरा झटका लगा। वह 32 गेंदों में 38 रन बनाकर आउट हुए। श्रेयस को लाहिरू ने आउट किया।

यह भी पढ़ें ...  देहरादून अटल जी के समय में देश को बहुत सारी जनकल्याणकारी योजनाएं प्राप्त हुई-मुख्यमंत्री पुष्कर धामी

राहुल और सूर्यकुमार कुछ खास नहीं कर सके

केएल राहुल और सूर्यकुमार यादव कुछ खास नहीं कर सके। राहुल छह गेंदों में सात रन और सूर्या चार गेंदों में चार रन बनाकर आउट हुए। कोहली ने 106 गेंदों में 150 रन पूरे किए। वह वनडे में सबसे तेज 150 रन बनाने के मामले में ईशान किशन का रिकॉर्ड तोड़ने से चूक गए। ईशान ने 103 गेंदों में 150 रन पूरे किए थे। आखिरी ओवर में भारत ने 18 रन जोड़े।

कोहली 110 गेंदों में 13 चौके और आठ छक्के की मदद से 166 रन बनाकर नाबाद रहे। वहीं, अक्षर पटेल दो रन बनाकर नाबाद रहे। श्रीलंका की ओर से रजिता और लाहिरू ने दो-दो विकेट लिए। वहीं, करुणारत्ने को एक विकेट मिला। आखिरी पांच ओवर में भारत ने 58 रन बनाए और तीन विकेट गंवाए।

सिराज ने बरपाया कहर

जवाब में श्रीलंकाई टीम की शुरुआत खराब रही। सिराज ने कहर बरपाते हुए अविष्का फर्नांडो (1) और कुसल मेंडिस (4) को पवेलियन भेजा। इसके बाद शमी ने चरिथ असलंका को अक्षर के हाथों कैच कराया। सिराज ने फिर नुवानिडू फर्नांडो (19) और वानिंदु हसरंगा (1) को भी क्लीन बोल्ड किया।
इसके बाद भारतीय स्टार तेज गेंदबाज ने चमिक करुणारत्ने (1) को रन आउट किया। शमी ने दुनिथ वेलालगे (3) को आउट किया, जबकि कुलदीप यादव ने दासुन शनाका (11) और लाहिरू कुमारा (9) को आउट कर श्रीलंका की पारी को समेट दिया।

कुलदीप-शमी ने दो-दो विकेट झटके

भारतीय पारी के दौरान जेफरे वेंडरसे और अशेन बंडारा चोटिल हो गए थे। वेंडरसे के कन्कशन रिप्लेसमेंट के तौर पर दुनिथ वेलालगे आए थे, लेकिन अशेन बंडारा बैटिंग के लिए नहीं आ सके। ऐसे में भारत को विजेता घोषित किया गया। सिराज ने चार विकेट झटके, जबकि शमी और कुलदीप को दो-दो विकेट मिला।

Hindxpress.com अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरें

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button