धर्म आस्था

हिमाचल झाजड़ा परंपरा: उत्तराखंड से बारात लेकर पहुंची दुल्हन

झाजड़ा परंपरा: झाजड़ा परंपरा में दूल्हा बरात लेकर दुल्हन के घर नहीं जाता। दूल्हे के गांव का एक व्यक्ति दुल्हन के घर जाता है और वहां से दुल्हन गांव के सभी लोगों के साथ उस व्यक्ति के साथ दूल्हे के घर पहुंचती है।

हिमाचल प्रदेश के जिला सिरमौर के शिलाई उपमंडल में पुरातन रीति-रिवाज से एक परिवार के तीन सगे भाइयों की शादियां हुईं। यहां बरात लेकर दूल्हा दुल्हन के घर नहीं गया, बल्कि उत्तराखंड से एक दुल्हन बरात लेकर ससुराल पहुंचीं और पूरी रस्मों व रीति-रिवाज के साथ शादी के बंधन में बंध गईं। इस अद्भुत नजारे के सैकड़ों लोग गवाह बने।

उत्तराखंड से आईं बरात

खास बात यह रही कि उत्तराखंड से बरात लेकर आईं सुमन के परिवार के साथ दहेज को लेकर कोई लेन-देन नहीं हुआ। उत्तराखंड की दुल्हन सिर्फ अपने घर से लोटा, बंटा और परात लेकर आईं। न ही शराब परोसी गई। उत्तराखंड का चकराता जनजातीय क्षेत्र है।

यह भी पढ़ें ...  हिमाचल प्रदेश: राज्य में भारी बारिश और बाढ़ से हुई तबाही का जायजा लेने पहुंचे जेपी नड्डा व अनुराग ठाकु

शिलाई और उत्तराखंड के जौनसार बाबर में इस तरह की परंपराएं सदियों से चली आ रही हैं। दूल्हे के पिता कुंभराम ने बताया कि शादी समारोह में नशे पर पूरी तरह पाबंदी रही। वहीं, केंद्रीय हाटी समिति के महासचिव कुंदन सिंह शास्त्री ने बताया कि यह जनजातीय क्षेत्र की परंपरा है। इसका जिक्र हाटी समुदाय की एथनोग्राफिक रिपोर्ट में भी है।

गिरिपार में चार तरह के विवाह की परंपरा
जनजातीय क्षेत्र गिरिपार में पुरानी परंपरा के अनुसार चार प्रकार के विवाह होते हैं। पहला विवाह बाला ब्याह होता है। इस परंपरा में पहले ही लड़की के विवाह की बात पक्की हो जाती थी। कई बार बच्चे के जन्म से पूर्व भी रिश्ता तय किया जाता था। झाजड़ा परंपरा में दूल्हा बरात लेकर दुल्हन के घर नहीं जाता। दूल्हे के गांव का एक व्यक्ति दुल्हन के घर जाता है और वहां से दुल्हन गांव के सभी लोगों के साथ उस व्यक्ति के साथ दूल्हे के घर पहुंचती है।

यह भी पढ़ें ...  पंजाब BJP प्रधान सुनील जाखड़ के भतीजे संदीप जाखड़ कांग्रेस से सस्पेंड

खिताइयूं विवाह
तीसरे प्रकार का विवाह खिताइयूं कहलाता है। एक से अधिक शादियां करने वाली लड़की के विवाह को खिताइयूं कहते हैं। चौथे प्रकार का विवाह हार प्रथा के अनुसार होता है।

कोई लड़की या कोई महिला अपनी इच्छा से किसी व्यक्ति के साथ भाग जाती है तो उसे हार विवाह कहते हैं। लड़की को भगाने वाले व्यक्ति को आर्थिक दंड भी लगाया जाता है, जिसे हरोंग कहते हैं। लेकिन, अब ऐसे विवाह की परंपरा लगभग खत्म हो गई है। झाजड़ा प्रथा के अनुसार विवाह अभी भी बरकरार है। इसमें दहेज नहीं दिया जाता।

Hindxpress.com अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरें

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button