मनोरंजन

Omega 3 Deficiency: शरीर में इन बदलावों से पहचानें ओमेगा 3 की कमी, आहार में शामिल करें ये चीजें

अच्छी त्वचा, मस्तिष्क और प्रतिरक्षा स्वास्थ्य के लिए शरीर में ओमेगा-3 फैटी एसिड का भरपूर मात्रा में होना बेहद आवश्यक है। इसलिए हमें ओमेगा -3 से भरपूर खाद्य पदार्थों या सप्लीमेंट्स को अपने आहार में शामिल करना चाहिए। ओमेगा-3 और मछली को अक्सर एक ही माना जाता है, जिसकी वजह से शाकाहारी लोग इससे परहेज करते हैं। लेकिन अब उन्हें चिंता करने की जरूरत नहीं है, क्योंकि अब कुछ ऐसे विकल्प भी मौजूद हैं जिनका मांस से कोई लेना-देना नहीं है।

अगर आप फिट रहना चाहते हैं तो ओमेगा-3 के महत्व को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। ऐसे समय होते हैं जब आपकी त्वचा या नाखून बदलने लगते हैं। ये आपके शरीर के सभी तरीके हैं जो दिखाते हैं कि आपको ओमेगा 3 का अधिक सेवन करने की आवश्यकता है। लेकिन ऐसा करने के लिए सबसे पहले आपको ओमेगा 3 की कमी के लक्षणों को पहचानना होगा।

ओमेगा -3 फैटी एसिड हेल्दी फैट होते हैं जो आपके दिल को स्वस्थ रखने, सूजन को कम करने और कैंसर और गठिया जैसी बीमारियों के जोखिम को कम करने में मदद कर सकते हैं। इसके अलावा ग्लूकोज टॉलरेंट, ब्लडप्रेशर, नर्व्स सिस्टम के विकास समेत और भी बहुत कुछ को नियंत्रित करते हैं।

यह भी पढ़ें ...  होली 2023: होली के रंग में नहीं पड़ना चाहते हैं तो इन टिप्स के जरिए ऐसे रखें अपनी आंखों का ख्याल

ओमेगा-3 की कमी के लक्षण

1. त्वचा, बाल और नाखूनों में बदलाव

अचानक सूखी त्वचा, फ्रिजी बाल, और पतले नाखून जो आसानी से टूट जाते हैं, अगर ऐसे लक्षण नजर आने लगें तो ये ओमेगा -3 की कमी के कारण हो सकते हैं। जानकारों के मुताबिक इससे डैंड्रफ की समस्या के अलावा आपकी त्वचा पर रैशेज भी हो सकते हैं।

2. हृदय संबंधी चिंताएं

अगर आपको हृदय की समस्या है, तो यह इस बात का संकेत हो सकता है कि आपको ओमेगा-3 का सेवन बढ़ाने की आवश्यकता है। यह किसी भी तरह के हृदय रोग से बचाता है और कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित करने में भी मदद करता है।

3. एकाग्रता में कमी

जब आवश्यक फैटी एसिड का स्तर कम होता है, तो यह फोकस और याद्धाश्त में कठिनाई पैदा करता है। आप आसानी से चिढ़ भी सकते हैं। विशेषज्ञ कहते हैं कि बच्चे और वयस्क जो बिना किसी कारण के जल्दी गुस्सा करने लगते हैं, वे ओमेगा-3 की कमी से पीड़ित हो सकते हैं।

4. जोड़ों का दर्द और टांगों में ऐंठन

यह भी पढ़ें ...  दंगल फिल्म की 'बबीता' एक्ट्रेस सुहानी भटनागर की मौत, 19 साल की उम्र में

मछली के तेल से प्राप्त ओमेगा-3 में उत्कृष्ट सूजन-रोधी गुण होते हैं इसलिए यह स्वाभाविक रूप से जोड़ों में सूजन को कम करता है। अगर आपको जोड़ों का दर्द नहीं है, तो ओमेगा-3 के उचित सेवन से दर्द से होने वाले दर्द को भी रोका जा सकता है।

5. थकान और नींद न आने की समस्या

नींद न आने की समस्या और थकान अक्सर तनाव से जुड़ी होती है, लेकिन यह ओमेगा-3 की कमी के कारण भी हो सकती है। इसकी मदद से आप बेहतर नींद में मदद पा सकते हैं।

ओमेगा -3 के स्रोत

अब तक, आपको पता होना चाहिए कि मछली, विशेष रूप से ठंडे पानी की वसायुक्त मछली जैसे सैल्मन, ट्यूना, मैकेरल और सार्डिन ओमेगा -3 के महान स्रोत हैं। लेकिन जो लोग शाकाहारी हैं, वो नट और बीज जैसे अलसी, चिया के बीज और अखरोट का सेवन कर खुद में ओमेगा 3 की कमी को दूर कर सकते हैं।

इनके अलावा वनस्पति तेल जैसे अलसी का तेल, सोयाबीन का तेल, और कनोला तेल के साथ-साथ अंडे, दही, जूस, दूध और सोया मिल्क जैसे खाद्य पदार्थ भी ले सकते हैं।

Hindxpress.com अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरें

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button